गाँधी जयंती पर विशेष

स्वर्ग से गांधी जी का खत-

प्यारे देशवासियों,
मैं तो यहां बिल्कुल मस्त हूँ और देश आजाद करवा के तुम्हें दे आया हूँ तो तुम लोग भी मस्त ही होगे। क्या बताऊँ अब यहां दिल लग गया कि वहां आने का जी नहीं किया फिर। गोडसे भी यहीं है। शाम को रोज़ मिलता है लेकिन आजकल बात नहीं होती उससे मेरी। मुझे हिंसा नहीं पसंद और अब मैं दुबारा अपने सीने पर गोली नहीं खा सकता हूँ। इसलिये मैं उसे अपनी चुप्पी से मारता हूँ।हम दोस्त बन गये थे बीच में कि एक दिन स्वर्ग में टीवी आ गयी। उसमें कुछ लोग गान्धी-गोडसे पर बहस कर रहे थे। हम दोनों ही मुस्कुरा रहे थे। लेकिन जबसे ये बेकार बहस वाला रोग हमारे यहाँ लग गया तब से ही हम चुप रहने लगे। अच्छा, सुना है आजकल आपको नये राष्ट्रपिता मिला गये हैं।भारत के प्रधानमंत्री मेरे पीछे पड़े रहते हैं, नये राष्ट्रपिता जो बन गये हैं!😜 लेकिन आज सुबह ही वो मुझे पुकार रहे थे, अच्छे फूल भी चढाये हैं आज तो। गांधी का देश बनाना चाहते हैं। स्वच्छता अभियान भी चला दिये लेकिन लोग फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर चिपका दे रहे और हम यहां से देख ले रहे। देश इसी तरह स्वच्छ हो रहा। यहाँ का मीडिया अभी ऐडवांस नहीं हुआ ज्यादा। लेकिन चंद्रयान के बारे में सुनकर अच्छा अच्छा फील हुआ।

देशवासियों, गुप्त सूचना मिली है बिहार में बाढ़ का प्लान बनाया गया है यहां से। लेकिन सुशासन बाबू सब सम्भाल लेंगे। क्यूँ करें विचार, जब हैं नीतीश कुमार। उडते हुए अर्थव्यवस्था के बारे में भी सुनायी दिया है। अच्छे दिन आ रहे हैं परेशान न होइयेगा, रास्ते में हैं। तुम ही लोग सुधर जाओ तो दिन अच्छे आ ही जायेंगे।

यार, कभी-कभी बहुत बुरा लगता है हमको। सब जगह, स्कूल, कॉलेज, सरकारी या गैर-सरकारी कार्यालय में हमारी फोटो तो लगा दिये हो, भाव बढ़ गया है यहां भी हमारा! लेकिन फिर हमारे सामने ही खी-खी-खी “थोड़े और मिल जाते तो आपका काम जल्दी हो जाता” वाला काम भी करते हो। कसम से, लोट जाते हैं हम!

देशवासियों, हमको ब्रो,डूड बोलते हो तो अच्छा लगता है, समय के साथ यहां भी लोग मोडर्न हो रहे। बस यार कोसते वक़्त बुद्ढ़ा, बुढऊ न बोला करो। लोट जाते हैं हम!

सुनो, हर गांधी महात्मा नहीं होता यारों, तुम लोगों को समझ नहीं आता क्या? हर गुजराती गांधी भी नहीं हो जाता ब्रो!

जन्मदिन के कार्यक्रम और शुभकामनाओं के लिये हम और शास्त्री जी साथ में मुस्कुराते हुए धन्यवाद कह रहे।अब हम दोनों जा रहे केक काटने, गोडसे ने सीक्रेट पार्टी प्लान की है। हमने यहां भी आन्दोलन करके स्वर्ग-नरक एक करवा लिया है, सब लोग आ रहे आज।
हैव फन!

अच्छा बताओ आजाद भारत में मज़ा तो आ रहा न?

तुम्हारा बापू

Published by StrongSoulTalks

simplicity is my identity

15 thoughts on “गाँधी जयंती पर विशेष

  1. देश के टुकड़े करने के बाद भी महात्मा जी ऊपर मस्त हैं। देश को अहिंसा के नाम पर कायर बनाकर, अपनी ही ज़मीन के लिए भीख मंगवाकर भी बापू जी मस्त हैं। नेहरूजी के गॉडफादर मृत्यु के इतने वर्षों बाद भी राष्ट्रपिता की उपाधि से सुशोभित हैं तो मस्त तो होंगे ही ऊपर।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website at WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: